Breaking News
Home / Interesting / अपनी बेटियों को बुरी नजर से बचाने के लिए यहाँ की हर माँ बेटियों के साथ करती हैं ऐसा काम जानकर आपकी..

अपनी बेटियों को बुरी नजर से बचाने के लिए यहाँ की हर माँ बेटियों के साथ करती हैं ऐसा काम जानकर आपकी..

आज के समय में एक से बढ़कर एक शानदार टेक्नोलॉजी मार्केट में आती जा रही हैं. इंसान को शानदार मूलभूत सुविधाएं मिलती जा रही हैं. आज देश कितना बदल चुका है इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है. लेकिन आज भी देश और दुनिया की कुप्रथाओं के बारे में सुनते हैं तो रूह काँप जाती है. वहीँ कुछ कुप्रथाएं ऐसी होती हैं जिन्हें जानने के बाद हंसी छूट जाती है और कुछ ऐसी होती हैं जो बेहद ही दर्दनाक होती हैं. आज हम आपको इसी तरह की प्रथाओं के बारे में बताने जा रहे हैं जो सदियों से चली आ रही हैं. जिन्हें जानकर आपकी भी रूह काँप जाएगी.

Source

जानकारी के लिए बता दें एक ऐसी भी प्रथा है जहाँ बेटियों को रेप से बचाने के लिए माँ जो काम करती हैं वो जानकर आप भी दंग रह जायेंगे. इस प्रथा का साउथ अफ्रीका के कैमरून और नाईजीरिया में आज भी पालन किया जाता है. आइये बताते हैं आपको भी इस प्रथा के बारे में. यहाँ लड़कियों को रेप से बचाने के लिए अमानवीय हरकतें की जाती हैं. जिसके चलते लड़कियों को असहनीय पीड़ा दी जाती है, इस प्रथा का पालन करने के बाद लड़की शादी से पहले माँ नहीं बन सकती और नाही उसका रेप हो सकता है.

Source

लड़कियों के साथ जो होता है जानकर रूह कांप जाएगी

इसी के साथ इस प्रथा को पालन करने के बाद कोई भी पुरुष लड़कियों पर बुरी नजर भी नहीं डालेगा और वह एक दम से सुरक्षित हो जाती हैं. इस प्रथा को ‘ब्रेस्ट आयररिंग’ नाम से जाना जाता है. यह नाम जानने के बाद ही आपके मन में एक अजीब तरह की झनझनाहट पैदा हुई होगी. तो बता दें इस प्रथा के जरिये ब्रेस्ट यानि स्तनों को आयरन करना होता है. इन देशों के कई अलग-अलग हिस्सों में स्तनों को बढ़ने से रोकने के लिए 11 से 14 साल की उम्र के बीच में ही उनके स्तनों पर गर्म लोहे की छड़ी या गर्म पत्थर दाग दिया जाता है. जैसे-जैसे लड़कियां बड़ी होती जाती हैं उन्हें इस असहनीय दर्द से गुजरना पड़ता है. ऐसा इस लिए किया जाता है जिससे उनके ब्रेस्ट सपाट हो सकें.

Source

गौरतलब है कि इस प्रक्रिया को लड़की के घरवाले जैसे ज्यादातर मां या और कोई औरत उनके विकसित होते स्तनों सपाट करने का काम करती हैं. इस प्रथा के बारे में जानकर आपकी भी रूह काँप गयी होगी. इस पूरी प्रक्रिया को करने में लगभग एक सप्ताह लग जाता है. कैमरून की 50 प्रतिशत लड़कियां इस कुप्रथा का शिकार हैं.